धर्म

केतार प्रखंड में सावित्री पूजा कि धुम,महिलाओ ने पति के लम्बी उम्र की कामना ।

बिट्टु सिँह कि रिपोट।

Screenshot_20200131-135058_Business Card Maker
Screenshot_20200131-140356_Business Card Maker
Screenshot_20200202-162010_Business Card Maker
20200205_142001

केतार(गढ़वा)

केतखर प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों गावों की महिलाओं ने बट सावित्री व्रत का अनुष्ठान कर अपने पति की लंबी उम्र की कामना की। महिलाएं सोमवार को उपवास रह कर स्नान कर वट वृक्ष की विधिवत पूजा- अर्चना की। वृक्ष में रक्षासूत लपेटते परिक्रमा कर अपने पति की लंबी उम्र की कामना की। महिलाओं की माने, तो आज के दिन वट वृक्ष की पूजा-अर्चना करने से पति की उम्र लंबी होती है। प्रखंड मुख्यालय सहित क्षेत्र के सभी गांवों में गुरुवार को सुहागिन महिलाओं ने अपने पति की दीर्घायु तथा सभी विपदाओं से रक्षा को लेकर वट-सावित्री व्रत रखा तथा वट वृक्ष की फेरी लगा कर पूजा- अर्चना की।

मुकुन्दपुर पंचायत के वार्ड नम्बर 3 में स्थित मुकुन्दब्रम धाम के पास के प्रांगण में वट सावित्री व्रत के अवसर पर सोमवार को अहले सुबह से ही क्षेत्र की सुहागिनों तथा नयी- नवेली दुल्हनों ने उपवास रख अपने- अपने पति की दीर्घायु के साथ ही सभी बाधाओं- विपदाओं से रक्षा को लेकर स्नान आदि के बाद पास के सुर्य मंदिर एवं केतार माँ भगवती एव़ अन्य देव स्थानों पर लगे वट- वृक्ष की पूजा- अर्चना करने के बाद उक्त वट वृक्ष में धागा लपटते हुए 111 बार फेरी लगायी। फिर पंडित उदय नाथ चौबे और श्री राकेश मिश्रा से पुराणों में वर्णित सत्यवान- सावित्री की कथा श्रवण किया।

जिस तरह सती सावित्री ने अपने पति की प्राण ले जा रहे यमराज से पति- भक्ति के बल पर तीन वचन के साथ ही अपने पति सत्यवान को भी जीवित करवाया था। यह वही वट- वृक्ष की पूजा का व्रत उस समय सावित्री ने किया था। कथा श्रवण के बाद सभी व्रतधारी महिलाओं ने मौसमी फल- मिठाई का भोग लगाया फिर पंडित जी जी को दान- पुण्य के बाद अपने- अपने घर जा पति की पूजा की। बांस तथा ताड़ के पंखा झलने के बाद फलों तथा शरबत से व्रत का पारण किया।

Related Articles

Back to top button
Close