राजनीति

नहीं रुक रहा अवैध बालू का उठाव सगमा से श्यामबचन यादव की रिपोर्ट

IMG-20191031-WA0057
20191030_140350
IMG-20191030-WA0009
IMG-20191029-WA0080
IMG-20191029-WA0081
businesscard10_29_224733

नहीं रुक रहा अवैध बालू का उठाव सगमा से श्यामबचन यादव की रिपोर्ट

सगमा(गढ़वा): बालू खनन पर सरकारी प्रतिबंध होने के बावजूद जिले के धूरकी थाना क्षेत्र के सगमा प्रखंड में बालू माफिया द्वारा खनन विभाग के नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। सरकार की सख्ती के बावजूद प्रखंड में अवैध बालू का खनन जारी है. बालू माफियाओं के द्वारा अवैध खनन से नदी के तटों पर बालू माफियाओं ने बालू उठाव के लिए नदी में 3 फुट से लेकर 10 फुट अंदर तक खुदाई कर बालू का अवैध उठाव किया जा रहा बालू माफियाओं ने नदी में मौत का कुआं बना दिया है।बड़े-बड़े जानलेवा गड्ढे बना दिए हैं जिससे हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है. इन गड्ढे में माल मवेशी भी गिर गए तो बच नही सकती। है। बालू माफिया द्वारा धड़ल्ले से बड़े पैमाने पर बालू का उठाव किया जा रहा है और प्रशासन मूकदर्शक बना बैठा है। पुलिस इसे रोक पाने में असमर्थ दिख रही है। स्थानीय लोग बताते हैं कि प्रशासन का साथ मिलने से यह धंधा फल-फूल रहा है। शाम होते ही बालू माफिया का जमावड़ा थाना के सामने लगने लगता है तथा थानाकर्मियों से तालमेल कर बालू का अवैध उठाव किया जाता है। बालू के अवैध कारोबार से जुड़े माफिया के आगे पुलिस भी बौनी साबित हो रही है। यदि माफिया को पुलिस कार्रवाई का डर होता तो रात होते ही प्रशासन के सामने बालू का उठाव नहीं होता। बालू का अवैध कारोबार करने वाले माफिया रात में एंव दिन के दोपहर में उठाव करते है। लोगों ने बताया कि शाम होते ही बालू माफिया द्वारा। प्रखंड क्षेत्र के पुतुर ,बघमरी सहित अन्य स्थानों पर नदी तट पर अवैध बालू खनन हो रहा है। बालू माफिया एवं पुलिस पदाधिकारी की मिलीभगत से लाखों के सरकारी राजस्व के हेराफेरी की संभावना बढ़ गई हैेै। सूत्र बताते हैं कि इन नदी से प्रतिदिन अवैध रूप से दर्जनों ट्रैक्टर बालू का अवैध उठाव किया जाता है। प्रति ट्रैक्टर दो हजार से तीन हजार रुपये की राशि अवैध राशि का वसूली की जा रही हहै। एंव बालू का उठाव किया जाता है। हालांकि, धूरकी थाना पुलिस द्वारा बालू माफिया पर नकेल कसने के लिए हमेशा छापेमारी अभियान चलाकर बालू लदे ट्रैक्टर को जब्त कर का कानूनी करवाई की जाती है।

Related Articles

Back to top button
Close