Breaking News

हौसला बुलंद हो तो मंजिल एक न एक दिन मिल ही जाती है

Screenshot_20200314-220137_Facebook
  • धुरकी:हौसला बुलंद हो तो मंजिल एक न एक दिन मिल ही जाती है।

धुरकी से कृष्णा यादव का रिपोर्ट

धुरकी।गढ़वा। धुरकी थाना क्षेत्र के अंतर्गत खाला गांव के पेशे से कालीन बुनने वाला मजदूर सहादत अंसारी का पुत्र मोहम्मद रौशन रजा मिस्बाही अजहरी ने विश्व के मिस्र देश में स्थित अलजहर यूनिवर्सिटी से अरबी भाषा मे रिसर्च करके पूरे यूनिवर्सिटी में प्रथम स्थान प्राप्त कर झारखंड राज्य का नाम रौशन किया।
इनके अपने मुल्क वापसी पर प्रखंड वासी कुदुस अंसारी, फैजुल्लाह अंसारी, रामप्रवेश राम, गणपत यादव, कइल राम, जाबीर अंसारी, सदर मैनुद्दीन, रोजमोहमद अंसारी, सेक्रेटरी कासिम अंसारी आदि ने धुरकी कर्पूरी चौक के पास फूल माला से जोरदार स्वागत किया इसके बाद सैकड़ो की संख्या में ग्रामीणों ने खाला मस्जिद तक नारे के साथ जुलूस निकाला।

इनकी प्रारम्भिक शिक्षा गांव के बाद उच्च शिक्षा हेतु यूपी के आजमगढ़ स्थित अशरफिया यूनिवर्सिटी में चयन हुआ वहाँ इन्होंने मुफ़्ती के दस्तार लिया इसके बाद उच्च शिक्षा हेतु अरबी भाषा मे रिसर्च करने हेतु प्रतियोगिता परीक्षा में चयन हुआ। जहाँ इन्होंने नामांकन लेकर दो वर्ष तक यूनिवर्सिटी में अरबी भाषा मे रिसर्च किया।इन्हें पढ़ने के लिये इनके पिता ने जमीन तक बेच दी। इनके पिता ने बताया कि चार पुत्र व एक पुत्री है जो सभी को पढ़ाने में असक्षम है। इन्होंने अपनी सफलता का श्रेय माता पिता, शिक्षक एवं अपने मित्रों को दिया है। इन्होंने ने बताया कि मुझे आगे एलएलबी की पढ़ाई करनी है। अपने मेहनत से गरीबी को दूर किया जा सकता है वर्तमान समय मे शिक्षा के बिना जिंदगी अधूरा है। लक्ष्य के अनुरूप मेहनत करने से सफलता मिल ही जाती है।

Related Articles

Back to top button
Close