Breaking News

फायरिंग कर हत्या करने वाले आरोपी गिरफ्तार  

Screenshot_20200131-135058_Business Card Maker
Screenshot_20200131-140356_Business Card Maker
Screenshot_20200202-162010_Business Card Maker
20200205_142001

फायरिंग कर हत्या करने वाले आरोपी गिरफ्तार

नारायणसिंह भैरूपुरा

बाडमेर

सिवाना. कस्बे में छह दिन पूर्व दिनदहाड़े हुई फायरिंग में एक युवक की हत्या व एक जने के घायल होने के मामले का पुलिस ने रविवार को खुलासा करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। एक नाबालिग सहित दो आरोपियों को दस्तयाब किया है। दस्तयाब एक आरोपी पुलिस निगरानी में जोधपुर हॉस्पिटल में भर्ती है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरपतसिंह ने बताया कि जिला पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर बालोतरा सीईओ सुभाषचन्द्र खोजा मय टीम ने 31 दिसम्बर को सिवाना के मोकलसर ऱोड पर हुई फायरिंग व हत्या के मामले में मुख्य आरोपी सूरजसिंह पुत्र आनन्दसिंह राजपूत निवासी सिंहपोल कायस्थों की घाटी जूनी मंडी जोधपुर को गिरफ्तार किया है। दूसरे आरोपी ललित भाटी पुत्र रामरत्न घंाची निवासी राव कॉलानी मसूरिया जोधपुर को दस्तयाब कर इलाज के लिए एमडीएम हॉस्पिटल जोधपुर में पुलिस निगरानी में भर्ती करवाया है। इस घटना में मृतक छोटूसिंह उर्फ कानसिंह व घायल मालमसिंह की घटना के दिन सिवाना कस्बे में इनकी उपस्थिति के बारे में वारदात के मास्टर माइंड आरोपी पृथ्वीसिंह को पल पल की जानकारी देने वाले एक नाबालिग को भी पुलिस ने दस्तयाब किया है। घटना के मुख्य आरोपी सहित शेष आधा दर्जन आरोपी फरार है।

ऐसे दिया वारदात को अंजाम-पुलिस ने बताया कि मृतक छोटूसिंह उर्फ कानसिंह व घायल मालमसिंह राजपूत निवासी मिठौड़ा व आरोपी पृथ्वीसिंह पुत्र जबरसिंह राजपूत निवासी पिपलून के बीच सिवाना कस्बे में स्थित एक प्लॉट को लेकर लंबे समय से आपसी रंजिश चल रही थी। इसी रंजिश को लेकर दोनों के बीच पहले भी जानलेवा मुकदमे दर्ज हुए थे। मुख्य आरोपी पृथ्वीसिंह पर मृतक छोटूसिंह ने साल भर पहले जानलेवा हमला किया था। इसी रंजिश को लेकर आरोपी पृथ्वीसिंह ने छोटूसिंह उर्फ कानसिंह व मालमसिंह को मारने के लिए जोधपुर के अपने दोस्त कालूपुरी से सहायता मांगी। कालुपुरी जोधपुर शहर के प्रतापनगर थाने का हिस्ट्रीशीटर है। जो बाड़मेर के दिनेश मांजू हत्याकांड का आरोपी भी है।

मुख्य आरोपी पृथ्वीसिंह ने घटना से कुछ दिन पहले जोधपुर जाकर कालुपुरी के साथ योजना बनाई। योजना के मुताबिक आरोपी पृथ्वीसिंह ने घटना से पहले अपने सहयोगी राजूसिंह उर्फ राजेन्द्रसिंह की स्कार्पियो गाड़ी आरोपी कालूपुरी को उपलब्ध करवाई। 30 दिसम्बर को कालूपुरी जोधपुर से स्कार्पियो गाड़ी में अपने साथ सूरजसिंह, ललित घंाची, राजेश बाबल, बिटू सेन को सिवाना लेकर आया। देर रात तक आरोपियों ने छोटूसिंह व मालमसिंह को मारने की योजना बनाई। इसके तहत मुख्य आरोपी पृथ्वीसिंह ने मृतक छोटूसिंह उर्फ कानसिंह तथा घायल मालमसिंह की रैकी करने के लिए एक विधि से संघर्षरत नाबालिग को लगाया। जो इनके बारे में पल पल की जानकारी आरोपियों तक पहुंचाता था। वारदात से कुछ समय पहले मुख्य आरोपी पृथ्वीसिंह के ऑफिस से एक मोटर साईकिल पर तीन आरोपी निकले। जो मालमसिंह के ऑफिस के बाहर आकर खड़े हो गए। इसी दौरान मालमसिंह व मृतक छोटूसिंह अपनी स्कार्पियो गाड़ी लेने के लिए एक मोटरसाईकिल पर मोकलसर रोड स्थित एक टायर पिंचर की दुकान पर पहुंचे। इसी दौरान वहां खड़े तीनों आरोपी भी उनका पीछा करते करते करते पिंचर की दुकान के पास एक गली में अपनी मोटरसाईकिल छोड़कर रैकी करने लगे। इस दौरान आरोपी राजेश बाबल ने मुख्य आरोपी पृथ्वीसिंह को इसके बारे में सूचना दी।

सूचना मिलते ही पृथ्वीसिंह अपने साथियों के साथ ऑफिस से रवाना हुआ। राजूसिंह उर्फ राजेन्द्रसिंह को स्कार्पियो गाड़ी को घटना के बाद में भागने के लिए तैयार रखने को कहा। इसके बाद आरोपी पृथ्वीसिंह ने घटना स्थल पर आते ही वहां खड़ी मालमसिंह की स्कार्पियों गाड़ी को साइड से टक्कर मारी तथा नीचे उतरकर अंधाधुंध फायरिंग की। इसमें पृथ्वीसिंह ने छोटूसिंह पर नजदीक से फायर किया। इससे वह गिर गया। अन्य आरोपियों ने छोटूसिंह पर हथोड़े व पाइप से मारपीट की। यहां खड़े मालमसिंह के भागने पर इन्होंने इस पर पीछे से फायर किए। इससे वह घायल हो गया। आरोपियों की ओर से मृतक छोटूसिंह व घायल मालमसिंह पर दोनों तरफ से फायरिंग करने के दौरान गुट में शामिल एक आरोपी ललित घांची के दो गोली लगी। इस पर पुलिस टीमों ने घायल आरोपी ललित घांची की खोजबीन करते हुए उसे दस्तयाब किया। जोधपुर के निजी हॉस्पिटल से पुलिस निगरानी में एमडीएम हॉस्पिटल जोधपुर में भर्ती करवाया है।

 

वारदात का खुलासा- सिवाना में इस बड़ी वारदात पर पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी के निर्देशन पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरपतसिंह के नेतृत्व में 10 पुलिस की टीमों का गठन किया गया। सूचना के आधार पर संभावित ठिकानों पर दंबिश दी। घटना की बारीकी से विश्लेषण कर तकनीकी सहायता ली गई। दो दिन पूर्व असाड़ा में मिली स्कार्पियो वाहन से भी पुलिस को महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे। आरोपी घटना के बाद स्कार्पियो वाहन से भागने की फिराक में थे। स्कार्पियो वाहन मालिक राजूसिंह उर्फ राजेन्द्रसिंह घटना के बाद हड़बड़ाहट में वाहन को असाडा में छोड़कर फरार हो गया। पुलिस ने जब्त वाहन में आरोपियों के कपड़े कागजात, फोटो के आधार पर कड़ी से कड़ी जोड़कर प्रत्येक आरोपी की पहचान कर वारदात का खुलासा किया। घटना के शेष आरोपियों में पृथ्वीसिंह पुत्र जबरसिंह जाति राजपूत निवासी पिपलून, विक्रमसिंह पुत्र भंवरसिंह राजपूत निवासी देवन्दी, राजूसिंह उर्फ राजेन्द्रसिंह पुत्र शैतानसिंह राजपूत निवासी पिपलून, कालूपुरी उर्फ प्रदीपपूरी पुत्र शंकरपुरी गोस्वामी निवासी दाऊजी की पोल सुथला थाना प्रतापनगर जोधपुर, राजेश बाबल पुत्र हरसुखराम जाति विश्नोई निवासी खेजड़ली कला, बिट्टु सैन पुत्र गोरधनराम निवासी गोदावरी गार्डन के पास कुचामन सिटी नागौर फरार है। पुलिस इनकी खोजबीन में जुटी हुई है।

 

यह है मामला- घटना को लेकर 31 दिसम्बर को गुड़ानाल निवासी गणपतसिंह पुत्र भूरसिंह राजपूत ने सिवाना थाने में मुकद्दमा दर्ज करवाया ेकि उसके पुत्र छोटूसिंह उर्फ कानसिंह उम्र 24 साल की पृथ्वीसिंह पुत्र जबरसिंह निवासी पिपलून वगेरह 8 ञ 10 लोगों ने बन्दूको से फायर कर हत्या कर दी। उसके रिश्तेदार मालमसिंह पुत्र आमसिंह निवासी मिठौड़ा इस घटना में गंभीर घायल हुए।

Related Articles

Back to top button
Close