Breaking News

आरक्षण विरोधी कानून को लेकर एक दिवसीय धरना।।

Screenshot_20200314-220137_Facebook

झाझा(जमुई)से व्यूरो चीफ बिन्दु कुमार कश्यप की रिपोर्ट।।

 

आरक्षण विरोधी कानून को लेकर एक दिवसीय धरना।।

 

आज दिनांक 21 फरवरी 2020 को झाझा के अम्बेडकर चौक पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा हाल में दिया गया आरक्षण के खिलाफ फैसले के विरोध में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया जिसमें झाझा के सैकड़ों बुद्धिजीवी और कार्यकर्ताओं ने भाग लिया । सनद रहे कि सुप्रीम कोर्ट ने हाल में ही आरक्षण विरोधी फैसला दिया है । सरकार ने इतना कमजोर वकील किया कि वह ठीक से इस मुद्दे को रख नही पाया । सरकार आरक्षण को बचा नहीं पाई । इस मौके पर धरना के आयोजक डॉ केदार कुमार मंडल,सहायक प्रोफेसर दिल्ली विश्विद्यालय ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट हमेशा से आरक्षण विरोधी फैसला देता रहा । यह फैसला भी इसी की अगली कड़ी है । इस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आरक्षण फंडामेंटल अधिकार नहीं है इसलिए यह राज्य पर निर्भर करता है कि वह आरक्षण लागू करे या न करे ,साथ में कोर्ट ने यह भी कहा है कि प्रमोशन में आरक्षण नहीं दिया जाना चाहिए का जीतने तक विरोध करेंगे डॉ केदार ने आगे कहा कि यह संविधान विरोधी और आरक्षण विरोधी फैसला है जिसे हम इस फैसले को बदलने तक लड़ेंगे । डॉ केदार ने कहा कि आरक्षण को संविधान के नवमी सूचि में डाला जाना चाहिए जिससे सुप्रीम कोर्ट इस पर बुरी नजर नहीं डाल पाये ।इस अवसर पर शिक्षक नीरज कुमार पासवान प्रखंड अध्यक्ष एस सी एस टी कर्मचारी संघ ने कहा कि सामाजिक न्याय खतरे में है ।हम सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय का विरोध करते हैं । लोजपा प्रखंड अध्यक्ष मनोज पासवान ने कहा कि प्रमोशन में आरक्षण न देना संविधान विरोधी फैसला है इससे एस सी एस टी ओ बी सी ऊँचे पदों पर नहीं पहुँच पायेंगें । इससे बहुजनों का विकास रुक जायेगा । साथ में मदन यादव,शम्भू नाथ जगत बंधू, नागेश्वर तुरी ने भी अपना व्यख्यान दिया । इस धरना में विक्रम कुमार,शंकर मंडल,दिनेश चौधरी, बुद्धम सोरेन, सरोजकांत हेम्ब्रम, संजय दास, सुभाष रजक,पंकज पासवान,धर्मेंद्र तुरी,बिनोद तुरी सुखदेव मुर्मू, सुभाष कुमार यादव,उमेश कुमार,सत्यम कुमार आदि लोग शामिल हुए ।

Related Articles

Back to top button
Close